spot_img

महंगाई भत्ते पर सीएम पुष्कर सिंह धामी सरकार के फैसले से कर्मचारियों को झटका, आंदोलन का भी प्लान

Must Try

उत्तराखंड में महंगाई भत्ते को लेकर सीएम पुष्कर सिंह धामी सरकार के फैसले पर अपडेट सामने आया है। दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों को महंगाई भत्ते का लाभ न देने के वित्त विभाग के फैसले से झटका लगा है।

उत्तराखंड में महंगाई भत्ते पर हुए सरकारी निर्णय ने सीएम पुष्कर सिंह धामी की प्रशासनिक नीति को चुनौती दी है। वित्त विभाग द्वारा किए गए फैसले के तहत, दैनिक वेतनभोगी कर्मचारियों को महंगाई भत्ते का लाभ नहीं मिलेगा, जिससे उपनल कर्मचारियों को भी बड़ा झटका लगा है।

अब ऊर्जा सचिव के द्वारा भेजे गए प्रस्ताव के मंजूर होने की उम्मीद कमजोर है, जिसमें वित्त विभाग को उपनल कर्मचारियों को डीए का लाभ देने का सुझाव था। इस विषय पर जल्दी फैसला न होने पर, विद्युत उपनल संविदा कर्मचारी संगठन ने बड़े आंदोलन की तैयारी में प्रवृत्त हो गया है।

पिछले दिनों अपर सचिव वित्त की तरह से दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों को महंगाई भत्ते का लाभ न देने के आदेश किए थे। इस आदेश से उपनल कर्मियों को डीए का लाभ देने को लेकर चल रही मुहिम को झटका लगा है।

ऊर्जा निगम के बोर्ड से उपनल कर्मचारियों को महंगाई भत्ते का लाभ देने के आदेश के बाद सचिव ऊर्जा आर मीनाक्षी सुंदरम ने भी आदेश जारी किया। वित्त की कड़ी आपत्ति के बाद 24 घंटे के भीतर इसे स्थगित कर दिया गया और नए सिरे से प्रस्ताव मांगा था।

कर्मचारियों को वित्त के ताजा आदेश के बाद महंगाई भत्ते देने का प्रस्ताव खटाई में पड़ने का डर सता रहा है। उन्होंने प्रस्ताव रद्द होने पर आंदोलन की तैयारी कर ली है।

शासन पर श्रम कानूनों के उल्लंघन का आरोप
उत्तराखंड विद्युत संविदा कर्मचारी संगठन ने शासन पर श्रम कानूनों के उल्लंघन का आरोप लगाया। अध्यक्ष विनोद कवि ने कहा कि हर छह महीने में श्रम विभाग ही महंगाई सूचकांक के आधार पर परिवर्तनीय महंगाई भत्ते को तय करता है। यदि ये लाभ देना ही नहीं है, तो किन लोगों के लिए ये आदेश किए जा रहे हैं। केंद्र सरकार और सुप्रीम कोर्ट की गाइड लाइन के अनुसार ही ये वीडीए तय होता है।

‘अपने आदेश की दोहरी व्याख्या कर रहा शासन’
उपनल कर्मचारियों ने शासन पर अपने ही आदेश की दोहरी व्याख्या करने का आरोप लगाया। अध्यक्ष कवि ने कहा कि फरवरी 2003 के दैनिक वेतन, आउटसोर्स, संविदा कर्मचारियों को नियमित न किए जाने के आदेश की दोहरी व्याख्या हो रही है। एक ओर इस आदेश को आधार बनाते हुए डीए पर रोक लगा दी है। वहीं इस आदेश के बाद हजारों की संख्या में उपनल कर्मियों को नियमित किया गया।

ऊर्जा विभाग की ओर से उपनल कर्मियों को महंगाई भत्ते का लाभ देने का प्रस्ताव वित्त विभाग को समय पर उपलब्ध करा दिया गया है। वित्त विभाग की ओर से जो भी निर्णय लिया जाता है, उसी के बाद आगे इस प्रस्ताव को देखा जाएगा।
आर मीनाक्षी सुंदरम, सचिव ऊर्जा

- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img

Latest Recipes

- Advertisement -spot_img

More Recipes Like This

- Advertisement -spot_img